आज़ादी ! आज़ादी ! आज़ादी ।।

कोई भारत बर्बादी के सपने बुनता भारत भूमि पर , कोई मनाता आतंकी की बरसी भारत भूमि पर । कोई भारत मुर्दाबाद लगाता नारा भारत भूमि पर, कोई भारत माता को गाली दे जाता भारत भूमि पर ।। कहीं राष्ट्र विरोधी नारे हैं, चिंगारी है अंगारे हैं। गैरों से जीते क्या जीते, अपनों के हाथों…

Read More

Open Your Eyes ! Reservation is not Wise.

Dear Citizens of my nation, Reservation is demarcation; to youth’s potential: Alas! Victim is Nation. My notion is not against reserved, but do support deserved; For Nation comes first. Reservation for depressed !? then why caste is prefixed? When you know poverty brings twist!! Open your eyes; little Wide, and see reservation is not wise:…

Read More

जब तलक चप्पू चलाएगा अनाड़ी , तब तलक डूबेगी ही किश्ती तुम्हारी !

इस व्यवस्था के ही तो मारे हुए हैं इसलिए तो जीत कर हारे हुए हैं वरना किसमें दम है कि हमको हरा दे? इस करीने से हमारा सिर झुका दे! हम वो हैं जो काम में अपने निपुण हैं झाँक कर देखो! हमीं में सारे गुण हैं हम वो हैं जो छत्र ना पुरखों का…

Read More

General is New “OBC”

आरक्षण ! ? 1950 में ब. र. अम्बेदकर द्वारा लिखित हमारा संविधान, ग्रंथों के समान, है यह भारत वासियों का अभिमान । आरक्षण है, इसकी देह का छोटा सा भाग, क्या यह है, वरदान या अभिशाप ? इतिहास में है बखान, जाति के आधार पर मिलता था सम्मान । हर दिशा में था इसका ही गान,…

Read More