इंसानियत के वास्ते

लड़ाई-झगड़ों से हमारे गाओं-घरों को उजड़ा जा रहा है , बदला लेंगे इसलिए हथियार उठाया जा रहा है | सोचा था और भी हमारा साथ देंगे इंसानियत के वास्ते , पर हमें तो आतंकवादी करार दिया जा रहा है ! फ़िर हमने ख़ुदा से पूछा क्या गलती थी हमारी ? क्यों हमारी ज़िंदगी को वीरान…

Read More

राब्ता

  मन हुआ फ़िर तुमसे राब्ता कर लूँ, खोज-ख़बर तुम्हारी लेने के लिए फ़क़त जानने के लिए कैसी हो! खुश हो? या कोई ग़म तुम्हें सताता है? क्या अंधेरा अब भी तुम्हें डराता है? क्या दिल में कहीं मेरी याद बाक़ी है? या ज़ेह्न ही की तरह दिल भी मुझसे खाली है? क्या दिन तुम्हारे…

Read More

हिंदुस्तान

यह है हिंदुस्तान , कहीं बच्चे बनाते मिट्टी के मकान ; कही बड़े मशग़ूल है बनाने में पहचान , यहाँ बुज़ुर्ग़ों को है शान ,बड़ा मेरा खानदान और यह पुरखों का मकान। यह है हिंदुस्तान ! गंगा भी है ,यमुना भी है ,मगर यहाँ प्यासे भी है अनेक। अगर कभी भूखा-प्यासा भी हो यह देश…

Read More

Indian Marriages

In India ,marriage is prime; Be it rude or kind, With or without your conscience; Love without marriage is a crime. If you are in love; You are fortunate, And,ironically unfortunate; Because,Indian society is candle on the cake. But marriage blows it with grace; AND , You get the right to love your mate. Did you…

Read More

General is New “OBC”

आरक्षण ! ? 1950 में ब. र. अम्बेदकर द्वारा लिखित हमारा संविधान, ग्रंथों के समान, है यह भारत वासियों का अभिमान । आरक्षण है, इसकी देह का छोटा सा भाग, क्या यह है, वरदान या अभिशाप ? इतिहास में है बखान, जाति के आधार पर मिलता था सम्मान । हर दिशा में था इसका ही गान,…

Read More

Jana Gana Mana – From Inside

The song Jana-gana-mana is five stanza hymn composed originally in Sanskritized Bengali by Nobel laureate Rabindranath Tagore, the first stanza of song was adopted in its Hindi version by the Constituent Assembly as the national anthem of India on 24 January 1950. The playing time of national anthem is approximately 52 seconds. In Bengali জনগণমন-অধিনায়ক…

Read More

Fifty Shades of India

India, the nation of pride; one can  barely imagine, it was that wide.             Different shades you find,             Wherever you take your sight. Golden bird it was known ; innumerable hearts it has won.             Noble motherland,    …

Read More