इंसानियत के वास्ते

लड़ाई-झगड़ों से हमारे गाओं-घरों को उजड़ा जा रहा है , बदला लेंगे इसलिए हथियार उठाया जा रहा है | सोचा था और भी हमारा साथ देंगे इंसानियत के वास्ते , पर हमें तो आतंकवादी करार दिया जा रहा है ! फ़िर हमने ख़ुदा से पूछा क्या गलती थी हमारी ? क्यों हमारी ज़िंदगी को वीरान…

Read More